गिना जाना

विश्व में लगभग 12 में से एक व्यक्ति 10-24 वर्ष की एक लड़की अथवा युवा महिला है। विकासशील देशों में लड़कियां और महिलाएं जनसंख्या का सबसे तेजी से बढ़ता हुआ हिस्सा हैं और उनका स्वास्थ्य तथा कल्याण मजबूत अर्थव्यवस्थाएं तथा स्वस्थ समुदाय तैयार करने और उन्हें बनाए रखने के लिए आधारभूत आवश्यकता है। और अभी भी महिलाओं और लड़कियों के संबंध में आधिकारिक आंकड़े न होने के कारण शिक्षा तक पहुंच, गरीबी स्तर और समग्र जनगणना क्रियाकलापों का सटीक आकलन बाधित होता है। इस आधारभूत सूचना के बिना विदेशी सहायता तथा घरेलू सामाजिक कल्याण कार्यक्रमों की आवश्यकता का आकलन करना मुश्किल है।

अधिकतर विकासशील देश राजनैतिक इच्छाशक्ति की कमी अथवा लड़कियों की गणना करने की क्षमता की कमी – जन्म प्रमाण-पत्र तथा पहचान हेतु अन्य आधिकारिक दस्तावेज जारी करने की क्षमता की कमी के कारण अपनी जनसंख्या में लड़कियों की संख्या की गणना नहीं करते। इसका अर्थ है कि जैसे-जैसे लड़की बड़ी होती है उसके लिए विद्यालय जाना अथवा नौकरी प्राप्त करना असंभव नहीं तो कठिन तो होगा ही। वह अपनी स्वयं की भूमि नहीं रख पाएगी अथवा अपना स्वयं का व्यवसाय शुरू नहीं कर पाएगी। वह मतदान नहीं कर पाएगी। उसे संभवत: उसके घर के अंदर सीमित कर दिया जाएगा और उसे काम के लिए कोई भुगतान नहीं किया जाएगा – वह समाज की एक अदृश्य सदस्य बन जाएगी।

संख्या के अनुसार

  • हालाँकि अधिकतर देशों के जन्म पंजीकरण कानून होते हैं, फिर भी प्रति वर्ष पांच वर्ष से कम आयु के लगभग 51 मिलियन बच्चों के जन्म का पंजीकरण नहीं किया जाता।
  • जन्म पंजीकरण लोगों तथा समुदायों के लिए महत्वपूर्ण है; लोगों को पंजीकरण की कानूनी स्थिति से लाभ होता है और समुदायों को जीवन संबंधी महत्वपूर्ण घटनाओं के संबंध में गुणवत्तापरक आंकड़े उपलब्ध होने से लाभ होता है।
  • राष्ट्रीय स्तर पर मान्यताप्राप्त जन्म प्रमाण-पत्र बच्चे की राष्ट्रीयता, जन्म स्थान, प्रतिशतता तथा आयु का निर्धारण करने के लिए महत्वपूर्ण है - जिसके बिना पासपोर्ट अथवा राष्ट्रीय ID कार्ड प्राप्त करना असंभव है।

आप क्या कर सकते हैं

लड़कियों की गणना नहीं करने का यह भी अर्थ है कि U.S. की विदेश नीति में U.S. सरकार की महिलाओं तथा लड़कियों को प्राथमिकता देने की प्रतिबद्धता पूर्णतया पूरी नहीं की जा रही। वर्ष 2013 में Girl Up ने लड़कियों की गणना करने और निम्नलिखित नीतियों का समर्थन करने के महत्व के संबंध में नीति-निर्माताओं को जानकार बनाने के लिए एक प्रयास शुरू किया:

  • यह सुनिश्चित करें कि लड़कियों की गणना की जाए। U.S. को ऐसे कार्यक्रमों का सहयोग तथा प्रोत्साहन करने के लिए प्रतिबद्ध होना चाहिए जो विकासशील देशों को जन्म प्रमाण-पत्रों तथा राष्ट्रीय पहचान-पत्रों सहित उनकी राष्ट्रीय पंजीकरण तथा पहचान पद्धतियां स्थापित करने में सहायता करें। ऐसा करने से नीति-निर्माताओं को लड़कियों से संबंधित जानकारी दिखाई देगी और उन्हें पता चलेगा कि किन क्षेत्रों में लड़कियों को बाहर रखा जा रहा है।
  • लड़कियों से संबंधित कार्यक्रमों में निवेश सुनिश्चित करें। U.S. को ऐसे कार्यक्रमों में नीतिगत निवेश सुनिश्चित करना चाहिए जो सफल समाज में योगदान करने वालों के रूप में किशोरियों पर जोर देते हैं।
  • सुनिश्चित करें कि लड़कियों को समान अवसर दिए जाएं। U.S. को लड़कियों के साथ भेदभाव समाप्त करने और यह सुनिश्चित करने के लिए कि किशोरियों को शिक्षा तक पहुंच जैसे मूलभूत अधिकारों का समान रूप से लाभ मिले, उन्हें सम्पत्ति में अधिक अधिकार देने हेतु प्रोत्साहन देना चाहिए।

यह सुनिश्चित करने के लिए समाधान है कि विश्व में अधिक से अधिक लड़कियों – चाहे वे कहीं भी पैदा हुई हों – की गणना उसी प्रकार की जाए जैसे दूसरों की की जाती है: लड़कियों की गणना संबंधी अधिनियम।

लड़कियों की गणना संबंधी अधिनियम का समर्थन करें